क्रिकेटखेल

इंग्लैंड के खिलाफ श्रृंखला भारतीय सरजमीं पर खेलना चाहते हैं: गांगुली

भारत के लिए लगभग 500 मैच खेला हूं, कोहली किसी भी खिलाड़ी से बात कर सकता हूं: गांगुली

कोलकाता. भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष सौरव गांगुली ने सोमवार को कहा कि कोविड-19 महामारी से उपजी परिस्थितियों के बाद भी बोर्ड यह सुनिश्चित करने के लिए पूरी कोशिश करेगा कि इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू श्रृंखला का आयोजन भारत में ही हो. उन्होंने उम्मीद जतायी घरेलू टूर्नामेंटों को भी किसी समय शुरू किया जा सकेगा.
भारत में कोरोना वायरस के मामले 60 लाख को पार गये है जिसमें से 95,000 से अधिक लोगों की मौत हो गयी है. इंग्लैंड को अगले साल जनवरी और मार्च के बीच पांच टेस्ट, तीन वनडे और तीन टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों के लिए भारत का दौरा करना है.
उन्होंने यहां संवाददाता सम्मेलन में यूएई में इंग्लैड के खिलाफ श्रृंखला आयोजित करने के विकल्प के बारे में पूछे जाने पर कहा, ‘‘हमारी प्राथमिकता यही है कि यह (इंग्लैंड के खिलाफ श्रृंखला) भारत में हो. हम इसे भारतीय मैदानों पर करने की कोशिश करेंगे. यूएई में यह फायदा है कि वहां तीन स्टेडियम हैं (अबू धाबी, शारजाह और दुबई).’’ बीसीसीआई ने हाल ही में अमीरात क्रिकेट बोर्ड से वहां मैच करने के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये थे.
गांगुली ने कहा, ‘‘ मुंबई में भी हमारे पास ऐसी सुविधा है जहां सीसीआई, वानखेड़े और डीवाई पाटिल स्टेडियम है. हमारे पास ईडन गार्डन भी है. हमें एक बायो बबल (जैव-सुरक्षित माहौल) बनाना होगा. हम अपनी क्रिकेट भारत में ही खेलना चाहते है. लेकिन हम कोरोना वायरस की स्थिति पर भी निगरानी रखे हुए हैं.’’
उन्होंने कहा, ‘‘पिछले छह महीने हर काम के लिए मुश्किल रहे हैं. आप चाहते हैं कि आपके यहां क्रिकेट का आयोजन हो. आप चाहते हैं कि जीवन वापस सामान्य हो जाए, इसमें खिलाड़ी भी शामिल हैं. लेकिन आप यह भी चाहते हैं कि कोविड-19 की स्थिति पर करीबी नजर रखी जाएं.’’ बीसीसीआई ने 2019-20 में पुरुषों और महिलओं के 2036 घरेलू मैचों का आयोजन किया.
अगर चीजें सामान्य रहती तो रणजी ट्रॉफी, दलीप ट्रॉफी, अंडर -23 सीके नायडू ट्रॉफी, विजय हजारे, देवधर ट्रॉफी, और सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी जैसे टूर्नामेंटों को आयोजन हो रहा होता. उन्होंने कहा, ‘‘हम स्थिति पर निगरानी रखे हुए हैं. हम अपना घरेलू सत्र शुरू करना चाहते हैं. हमारे दिमाग में सभी तरह के संयोजन, स्थितियां हैं. हम इसके लिये कोशिश करेंगे और जितना हो सके उतना करेंगे.’’
इंडियन प्रीमियर लीग में पूर्व भारतीय कप्तान महेन्द्र ंिसह धोनी के प्रदर्शन के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने उम्मीद जतायी कि यह करिश्माई खिलाफी चेन्नई सुपरंिकग्स के लिए अच्छा करेगा. उन्होंने कहा, ‘‘मौजूदा परिस्थितियों में उसे लय पाने में थोड़ा समय लगेगा. उसने डेढ़ साल से क्रिकेट नहीं खेला है. आप कितने भी अच्छे खिलाड़ी हो वापसी करना आसान नहीं होता है.’’
धोनी ने पिछले महीने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया था और गांगुली से जब धोनी को विदाई मैच देने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘‘ मैंने उनसे संन्यास वाले दिन बात की थी. आईपीएल के दौरान हालांकि मैं उनसे नहीं मिल सका क्योंकि वे बायो-बबल में है.’’
इस पूर्व कप्तान ने कहा, ‘‘मैंने इस बारे में धोनी से बात नहीं की है. धोनी ने भारत के लिए जो भी हासिल किया है वे इसके हकदार हैं. अभी हालांकि भविष्य के बारे में कुछ कहना मुश्किल है क्योंकि परिस्थितियां काफी बदल गयी है. हम किसी को अब यह नहीं कह सकते कि यहां आकर खेलिये.’’
भारत के लिए लगभग 500 मैच खेला हूं, कोहली किसी भी खिलाड़ी से बात कर सकता हूं: गांगुली
दिल्ली कैपिटल्स के कप्तान श्रेयस अय्यर से बात करने को लेकर भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष सौरव गांगुली पर हितों के टकराव का आरोप लगा जिस पर इस पूर्व कप्तान ने कहा कि उन्होंने देश के लिए लगभग 500 मैच खेले है जो उन्हें किसी भी खिलाड़ी से बात करने और मार्गदर्शन करने का अधिकार देता है, अब चाहे वो श्रेयस अय्यर हो या विराट कोहली.
इंडियन प्रीमियर लीग के मौजूदा सत्र में दिल्ली कैपिटल्स के कप्तान श्रेयस अय्यर ने एक साक्षात्कार में टीम के मुख्य कोच रिकी पोंंिटग और गांगुली (2019 में टीम के मेंटोर) के योगदान के बारे में बताया था जिसने उन्हें सफल खिलाड़ी और कप्तान के तौर पर निखरने में मदद की.
गांगुली के आलोचकों ने हालांकि आरोप लगाया कि बीसीसीआई के अध्यक्ष होते हुए वह एक फ्रेंचाइजी के कप्तान की मदद कर रहे हैं. गांगुली ने आरोपों को खारिज करते हुए कहा, ‘‘ मैंने पिछले साल उनकी (अय्यर) मदद की थी. मैं बोर्ड अध्यक्ष हो सकता हूं, लेकिन यह मत भूलो कि मैंने भारत के लिए लगभग 500 मैच (424 मैच) खेले हैं, इसलिए मैं एक युवा खिलाड़ी से बात कर सकता हूं और उसकी मदद कर सकता हूं, चाहे वह श्रेयस अय्यर हों या विराट कोहली. अगर वे मदद चाहते हैं, तो मैं कर सकता हूं.’’
अय्यर ने हालांकि बाद में ट्वीट कर सफाई पेश करते हुए कहा, ‘‘एक युवा कप्तान के रूप में पिछले सत्र में एक क्रिकेटर और कप्तान के रूप में अपनी यात्रा का हिस्सा बनने के लिए मैं रिकी और दादा का शुक्रगुजार हूं. एक कप्तान के रूप में मेरी व्यक्तिगत वृद्धि में उन्होंने जो भूमिका निभाई है मैं उसके प्रति कृतज्ञता जता रहा था.’’

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close